January 19, 2022

*काशी तट पर पहुंची ‘भारत रंग महोत्सव’ की नौका*

Spread the love
  1. *वाराणसी में हुआ 20वेँ भारत रंग महोत्सव का प्रवेश*

वाराणसी :-भारत के बेहतरीन रिवर फ्रंट में से एक शहर ‘वाराणसी’ थिएटर प्रेमियोँ को मंत्रमुग्ध करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। भारत के अंतरराष्ट्रीय थिएटर फेस्टिवल ‘भारत रंग महोत्सव’ के 20वेँ संस्करण के तहत यहाँ भी बेहतरीन नाटकोँ और इंटरैक्टिव क्रियाकलापोँ की पूरी सीरीज का आयोजन किया जा रहा है। फेस्टिवल की घोषणा 5 फरवरी को श्री मुरारीलाल मेहता ऑडिटोरियम में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान की गई, जहाँ नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (एनएसडी) के एसोसिएट प्रोफेसर, एक्टिंग दिनेश खन्ना ने पत्रकारोँ को सम्बोधित किया। बी आर एम के वाराणसी चौप्टर का उद्घाटन समारोह 7 फरवरी 2019 को होगा। इसके बाद उद्घाटन नाटक ‘अमली’ का मंचन किया जाएगा। यह सुशील शर्मा का एक हिंदी नाटक है। भारत रंग महोत्सव का आयोजन नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा द्वारा किया गया है। एनएसडी एक स्वायत्त संस्थान है जिसका संचालन भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय के तहत होता है। यह दुनिया के बेहतरीन थिएटर प्रशिक्षण संस्थानोँ में से एक है। फेस्टिवल के दौरान वाराणसी के लोगोँ को 7 प्रस्तुतियाँ देखने का अवसर मिलेगा जिसमे 3 विदेशी नाटक भी शामिल हैं जो रशिया, चेक रिपब्लिक और बांग्लादेश से हैं। इसके साथ ही, फेस्टिवल के दौरान आयोजित होने वाले ‘लिविंग लेजेंड’कार्यक्रम के तहत शिक्षक और छात्र थिएटर की जानी-मानी हस्तियोँ श्री बंसी कौल और श्री राजिंदर नाथ से रूबरू होंगे। वाराणसी 8वेँ थिएटर ओलम्पिक्स के सह-आयोजक शहरोँ में भी शामिल था, जो कि भारत में पहली बार आयोजित हुआ था और यहाँ अब तक आयोजित सबसे बडा थिएटर फेस्टिवल था। नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (एनएसडी) के एसोसिएट प्रोफेसर, एक्टिंग दिनेश खन्ना कहते हैं, “थिएटर का हमारे समाज पर हमेशा से गहरा प्रभाव रहा है और यह हमारी परम्परागत संस्कृति में नए बदलाव लाने के लिए सदैव रचनात्मक बना रहा है। भावनाओँ की अभिव्यक्ति के मामले में थिएटर की ऊर्जा हमेशा से अद्वितीय रही है। 20वेँ बीआरएम महोत्सव के साथ, मैं यह आशा करता हूँ कि शहर के लोग नाटकोँ की प्रस्तुतियोँ और थिएटर की दुनिया की प्रसिद्ध हस्तियोँ के साथ मुलाकात का भरपूर आनंद लेंगे।“वाराणसी में महोत्सव का समापन 13 फरवरी, 2019 को होगा।