December 5, 2021

*कानूनी ‘दांव-पेंच’ से लगेगी मुख़्तार अंसारी परिवार के किले में ‘सेंध’, ताजा घटनाक्रम के बाद चर्चाओं का बाजार गर्म*

Spread the love

*वाराणसी/लखनऊ:* लोकसभा चुनावों की तिथियां घोषित नहीं हुए हैं लेकिन राजनैतिक दलों ने अपनी गोट सेट करनी शुरू कर दी है। पिछले विधानसभा चुनाव की तरह एक बार फिर से अंसारी परिवार को लेकर चर्चाएं तेज हो गयी है। बसपा का मुस्लिम चेहरा माने जाने वाले इस परिवार की पूर्वांचल की कई सीटों पर खासी पकड़ है। यही नहीं नये चेहरे के रूप में अब्बास अंसारी की पश्चिम उत्तरप्रदेश में भी डिमांड रहती है। महागठबंधन की तरफ से अधिकृत प्रत्याशियों की सूची नहीं आयी है लेकिन परिवार और उससे जुडे लोगों की सीटों को लेकर कयास चल रहा है। इस बीच मऊ सदर के बाहुबली विधायक मुख्तार से जुड़ा एक नया मामला प्रकाश में आने से खलबली मची है। रंगदारी मांगने के मामले में मोहाली (पंजाब) में पेशी के बाद मुख्तार को रोपड़ जेल में दाखिल करा दिया गया है।
*दूसरे मामलों में लायी जा रही तेजी*
गौरतलब है कि मुख्तार मोहम्मदाबाद के भाजपा विधायक कृष्णानंद राय समेत सात लोगों की हत्या से पहले ही जेल की सलाखों के पीछे थे लेकिन साजिश रचने केआरोप में पिछले सवा दशक से बाहर नहीं निकल पाये। दिल्ली की सीबीआई कोर्ट मेंचल रहा यह मामला अंतिम दौर में हैं लेकिन कुछ दिनों से इसमें भी तेजी आ गयी है। फरवरी के पहले सप्ताह से फिर में इसमें रोजाना सुनवाई का सिलसिला शुरू होगा। उधर ठेकेदार मन्ना सिंह हत्याकांड के गवाह रामसिंह मौर्या और उसके सुरक्षाकर्मी सतीश सिंह की हत्या के मामले में मुख्तार की जमानत याचिका पर सुनवाई 13 फरवरी को होनी है।
*पूर्वांचल की प्रभारी प्रियंका, मुकदमा पंंजाब का*
इसे संंयोग समझा जाये या कुछ और लेकिन कांग्रेस ने गांधी परिवार से जुड़ी प्रियंका को लोकसभा चुनाव के समय पूर्वांचल का प्रभारी बनाने की घोषणा की और लगभग उसी समय पंजाब पुलिस एक मामले में बांदा जेल से मुख्तार को मोहाली लेकर चली जाती है। कहना न होगा कि पंजाब में इन दिनों कांग्रेस की सरकार है। वैैसे भी जिस बिल्डर ने मुख्तार के खिलाफ मुकदमा कायम कराया है वह दिल्ली में रहता है लेकिन उसने रपट दर्ज कराने के लिए मोहाली को चुना। मामले के पीछे एक प्रभावशाली नेता की चर्चा रही।