October 22, 2021

कर्मचारी शिक्षक अधिकारी पुरानी पेंशन बहाली मंच उत्तर प्रदेश, जनपद वाराणसी।

Spread the love

कर्मचारी शिक्षक अधिकारी पुरानी पेंशन बहाली मंच उत्तर प्रदेश, जनपद वाराणसी।
———————————–

वाराणसी 21 जनवरी 2019 ।कर्मचारी शिक्षक अधिकारी पुरानी पेंशन बहाली मंच उत्तर प्रदेश के आह्वान पर पुरानी पेंशन बहाली हेतु एक दिवसीय धरना का आयोजन शास्त्री घाट पर आज समय प्रातः 10:00 बजे से अपराह्न 12:00 बजे तक किया गया ।धरने की अध्यक्षता प्राथमिक शिक्षक संघ एवं मंच के अध्यक्ष श्री संतोष कुमार सिंह द्वारा किया गया। संचालन राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के जिला मंत्री श्री श्याम राज यादव द्वारा किया गया। धरने में प्राथमिक शिक्षक संघ ,माध्यमिक शिक्षक संघ ,जूनियर हाई स्कूल शिक्षक संघ ,कोषागार, लोक निर्माण विभाग, बोर्ड आफिस, बेसिक शिक्षा परिषद, जिला विद्यालय निरीक्षक, लेखपाल राजस्व संग्रह अमीन एवं अनुसेवक संघ, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी महासंघ,मिनिस्ट्रीयल फेडरेशन ,श्रम ,सेवायोजन, आबकारी, चिटफंड , सूचना विभाग, चकबंदी, रजिस्टार कानूनगो, निबंधन लिपिक संघ, संभागीय परिवहन ,विकास प्रधिकरण, नगर निगम, जलकल विभाग, स्वास्थ्य विभाग ,मातृ शिशु महिला कल्याण ,पशुपालन विभाग ,बोरिंग टेक्निशियन, लघु सिंचाई, आईटीआई, राज्य कर्मचारी महासंघ, बाल विकास पुष्टाहार विभाग, खाद एवं रसद विभाग, हिंदी संस्थान विभाग, उद्योग विभाग ,सहित तहसील एवं ब्लाक के संघों के पदाधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे, धरना में सभी वक्ताओं ने राज्य सरकार से पुरानी पेंशन बहाल किए जाने की मांग की और कहा कि विचारणीय बिंदु यह है कि
–माननीय सांसद /विधायक पुरानी पेंशन व्यवस्था लेंगे और कर्मचारी शिक्षक अधिकारी 40 वर्षों की सेवा के बाद भी क्यों नहीं?
—- हमारे वेतन से कटे धन को सरकारों द्वारा शेयर (जुआ) में लगाने का क्या अधिकार है ?
—बुढ़ापे में जीवकोपार्जन के लिए लाभ आधारित पुरानी पेंशन चाहिए।
—— सर्वोच्च न्यायालय द्वारा पेंशन दिए जाने के निर्णय के बाद भी विधेयक द्वारा विरोध किया गया क्यों ?
——हमारे वेतन का बचा हुआ अंस कोई खैरात नहीं।
— मा. योगी आदित्यनाथ जी ,मा.राजनाथ सिंह जी, महामहिम कल्याण सिंह जी आदि द्वारा पूर्व मन ं लिखे गए पत्रों को अब लागू किया जाए ।
उपरोक्त विचारणीय बिन्दुओं पर सभी वक्ताओं ने सरकार पर आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा यदि समय रहते पुरानी पेंशन व्यवस्था नहीं बहाल की गई तो इसके परिणाम भयावह होंगे, और इस टकराव का अंजाम सरकार के लिए अच्छी खबर नहीं होगी। पेंशन बहाली मंच के जिला संयोजक श्री शशिकांत श्रीवास्तव ने अपने संबोधन में कहा अब उत्तर प्रदेश ही नहीं पूरे भारतवर्ष का कर्मचारी पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू किए होने तक चुप होने वाला नहीं है जिसके लिए हम आंदोलनरत हैं उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा 2 महीने का समय लेने के बाद भी सरकार की तरफ से कोई कार्यवाही न किए जाने पर उत्तर प्रदेश का कर्मचारी और भी आक्रोशित है, इसके लिए आगामी आंदोलन की द्वितीय चरण में मशाल जुलूस का कार्यक्रम निर्धारित है जो दिनांक 28 जनवरी 2019 को शाम 5:00 बजे संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय के दक्षिणी गेट से निकलेगा और लहुराबीर चौराहे तक जाकर समाप्त होगा ।धरने की अध्यक्षता कर रहे मंच के जिलाध्यक्ष श्री संतोष कुमार सिंह ने कहा यदि पुरानी पेंशन बहाल नहीं की जाती है तो 6 फरवरी से पूरा राज्य कर्मचारी व अधिकारी ,शिक्षक हड़ताल करने के लिए विवश होंगे, जो अभी 6 से12 फरवरी तक ही घोषित है ।12 फरवरी को ही आगामी आंदोलन की घोषणा की जाएगी ।हड़ताल से प्रभावित जनजीवन की पूरी जिम्मेदारी सरकार की होगी ।धरने को सर्वश्री शशिकान्त श्रीवास्तव (जिला संयोजक ) महिमा द्विवेदी,वशिष्ठ नारायण सिंह (संरक्षक )दिवाकर द्विवेदी (वरिष्ठ उपाध्यक्ष) श्याम राज यादव (मंत्री) कैलाश नाथ सिंह यादव(मंत्री) सनत कुमार सिंह ,विकेन्द्र कुमार पांडेय,परशुराम यादव (मण्डल अध्यक्ष)दीपेंद्र कुमार श्रीवास्तव (मण्डल मंत्री) ,शशांक शेखर पाण्डेय,इं.मनोज श्रीवास्तव, वाचस्पति मिश्रा, संजय श्रीवास्तव, पद्मनाभ त्रिवेदी ,ई.मनोज यादव , दिनेश द्विवेदी , इं.मनोज चौहान ,अशोक सिंह,प्रेम चन्द्र गुप्ता, सुभाष सिंह , सुरेन्द्र पांडेय,लाला यादव,सत्य प्रकाश गौतम,विरेन्द्र प्रताप सिंह , रामाश्रय पाल,गीता उपाध्याय,शैल कुमारी , अरविंद दुबे ,विश्वास पांडेय, विवेकानंद ,ज्योति भूषण त्रिपाठी,अवधेश मिश्रा, इं.रविन्द्र श्रीवास्तव, आदि लोगों ने संबोधित किया।

शशिकांत श्रीवास्तव
जिला संयोजक
कर्मचारी, शिक्षक, अधिकारी पुरानी पेंशन बहाली मंच ,वाराणसी।