कंस्ट्रक्शन कंपनी के दो साझेदारों के बीच डेढ़ करोड़ रुपये की हेराफेरी का मामला प्रकाश में आया

Spread the love

बडागाँव वाराणसी 24 अप्रैल – – गुजरात की एक कंस्ट्रक्शन कंपनी के दो साझेदारों के बीच डेढ़ करोड़ रुपये की हेराफेरी का मामला प्रकाश में आया है। कंस्ट्रक्शन कंपनी के वाराणसी जनपद में बडागाँव थानाक्षेत्र के हरहुआ में स्थित कैंप कार्यालय का कार्यभार देख रहे एक साझेदार ने अपने दुसरे साझेदार को संस्था में जमा करने के लिए डेढ़ करोड़ का चेक दिया लेकिन दुसरे साझेदार की नीयत खराब हो गई और उसने एक ही नाम की दुसरी संस्था बनाकर चेक भजाते हुए पैसा हड़प लिया। इस बात की जानकारी होने पर पार्टनर ने जब पैसे की मांग किया तो दुसरे पार्टनर ने पैसा मांगने पर जान से मारने की धमकी दिया। भयभीत साझेदार जानमाल की रक्षा के लिए पुलिस महानिरीक्षक परिक्षेत्र वाराणसी के यहाँ प्रार्थना पत्र देकर न्याय दिलाने की मांग किया। मामले की गंभीरता को देखते हुए आई जी जोन ने बडागाँव पुलिस को आरोपी के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई का निर्देश दिया है जिसपर आज बडागाँव पुलिस मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच कर रही है।
जानकारी के अनुसार गुजरात में स्थित जिगर कंस्ट्रक्शन कंपनी के नाम पर एक संस्था है जिसका कैंप कार्यालय हरहुआ में स्थित है। इस कंपनी में चार साझेदार है जिसमें पटेल दीपक कुमार शिवा भाई पुत्र शिवा भाई वीरचंद्र भाई पटेल कैंप कार्यालय का कार्य देखता है तथा उसका दुसरा पार्टनर पटेल सुमति लाल मणीलाल पुत्र स्व0 पटेल मणीलाल गुजरात में स्थित कंपनी मे कार्यभार देखता है। दीपक कुमार ने आज से कुछ माह पुर्व डेढ़ करोड़ रुपये का चेक अपनी कंपनी के नाम से सुमति लाल को दिया एकमुश्त डेढ़ करोड़ रुपया देखकर पार्टनर की नियत खराब हो गई और वह अपनी ही कंपनी के नाम से दुसरी फर्जी कंपनी बनाकर स्वतः उसका मालिक बनते हुए चेक जमाकर पैसे का भुगतान ले लिया। इस बात की जानकारी जब चेक भेजने वाले साझेदार को हुई तब उसने अपने पार्टनर से पूछताछ शुरू किया जिसपर उसके पार्टनर ने 10 और 12 अप्रैल 2019 को पैसा मांगने पर जान से मारने की धमकी दिया। भुक्तभोगी द्वारा दिये गये प्रार्थना पत्र के आधार पर बडागाँव पुलिस ने आरोपी के विरूद्ध धारा 419, 420, 504, 406, एवं 506 आई पी सी के अंतर्गत मुकदमा पंजीकृत किया है।

Leave a Reply