November 28, 2021

एक नजर इधर भी “

Spread the love

वाराणसी : जीएसटी अधिनियम के तहत हो रहे अपराध के खिलाफ विभागीय कार्रवाई में मंगलवार को पहली
गिरफ्तारी हुई । आशंका जताई जा रही है कि इस नेटवर्क में और गिरफ्तारियां संभव हैं । बोनस आइटीसी ( इनपुट टैक्स क्रेडिट ) का नेटवर्क ब्रेक करते हुए वाणिज्य कर विभाग ने अलीगढ़ में फर्जी फर्म बनाने वाले एक व्यापारी को जहां गिरफ्तार कर लिया गया गया है । वहीं अलीगढ़ , मीरजापुर व बुलंदशहर की पांच फर्मो की जांच में 250 करोड़ के बोगस ट्राजेक्शन का भी खुलासा किया गया है । विभाग की कार्रवाई से फर्जी फर्म बनाकर आइटीसी हजम करने वाले कारोबारियों में हड़कंप मचा है ।
दरअसल अभी तक की जांच कर्रवाई में पेनाल्टी मद में अपेक्षित आठ करोड़ की धनराशि में से मीरजापुर में 1.71 करोड़ , अलीगढ़ में 1.10 करोड़ , तथा बुलंदशहर में 24 लाख यानि कुल मिलाकर 3.05 करोड़ की रिकवरी हो चुकी है । जांच में लगे केके वर्मा अपर आयुक्त ग्रेड-2 , वाराणसी ने जानकारी दिया कि विभाग की विशेष अनुसंधान शाखा इकाई-ए अलीगढ़ में के ज्वाइंट कमिश्नर एचपी राव व डिप्टी कमिश्नर आरपीएस कौन्तेय के नेतृत्व में मंगलवार को अलीगढ़ की एक ट्रेडिंग फर्म शिवानी स्टील्स के व्यापार स्थल का औचक निरीक्षण किया । जांच में यह फर्म फर्जी मिली तथा करीब 6.42 करोड़ की बोगस आइटीसी का गड़बड़झाला सामने आया । इस प्रकरण में विभाग ने प्राथमिकी दर्ज कराई है । पुलिस ने तत्काल कार्वाई करते हुए फर्म के स्वामी अंकित गर्ग को गिरफ्तार कर लिया गया है ।
सर्च सेल ने आयरन ऐंड स्टील कमोडिटी में हो रहे करापवंचन के तौर-तरीकों एवं उपलब्ध डाटा के सम्यक विश्लेषण के उपरान्त एक अन्तरप्रांतीय नेटवर्क के बारे में विश्लेषणात्मक रिपोर्ट तैयार की है । इसी रिपोर्ट के आधर पर अलीगढ़ कि दो निर्माता इकाइयों एलडी गोयल स्टील व अग्रवाल फेरो मेटलिक , मीरजापुर की दो निर्माता इकाइयों इको स्टील व शान्ति गोपाल कानकास्ट तथा सिकंदराबाद-बुलंदशहर की निर्माता इकाई हन्नू स्टील्स के व्यापार स्थल की पिछले दिनों जांच कराई गई । संदिग्ध प्रपत्रों पर 14 गाड़ियां माल सहित डिटेल की गई । करीब 25 करोड़ का अघोषित स्टाँक मिला । जिस पर करीब आठ करोड़ रुपये पेनाल्टी मद में वसूल किया जाएगा ।