October 23, 2020

ई-प्राॅसीक्यूशन पोर्टल पर लगभग 16 लाख कार्यवाहियाॅ दर्ज- अजय मिश्रा

Spread the love

ई-प्राॅसीक्यूशन पोर्टल पर लगभग 16 लाख कार्यवाहियाॅ दर्ज करते हुये उत्तर प्रदेश अभियोजन विभाग सम्पूर्ण भारत में लगातार 9 माह से प्रथम रैंक पर

 

लगभग 500 अभियोजकों को ई-प्राॅसीक्यूशन एवं अन्य विभागीय कार्यो तथा ई-लाइब्रेरी की सुविधा हेतु लैपटाप की उपलब्धता सुनिश्चित की गई

 

वर्ष-2020-21 में सम्पूर्ण विभाग को डिजीटाइज करने का लक्ष्य

लखनऊ: 23 सितम्बर, 2020

 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के निर्देश पर अपराधियों को सजा दिलाने के काम में और तेजी लायी गई है। इसके लिए अभियोजन विभाग को और अधिक सक्रिय बनाते हेतु शासन द्वारा आवश्यक सुविधायें भी उपलब्ध करायी गयी है। अभियोजन कार्य से जुड़े अधिकारियो कोे ई-प्राॅसीक्यूशन पोर्टल पर कार्य करने हेतु व्यावहारिक जानकारी देकर उन्हे और सक्षम बनाने के लिए प्रशिक्षण भी दिलाया गया है।

अपर मुख्य सचिव, गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी ने जानकारी देते हुए बताया कि ई-प्राॅसीक्यूशन पोर्टल पर लगभग 16 लाख कार्यवाहियाॅ दर्ज करते हुये उत्तर प्रदेश अभियोजन विभाग सम्पूर्ण भारत में लगातार 9 माह से प्रथम रैंक पर है। प्रत्येक परिक्षेत्रीय मुख्यालय पर अभियोजन साक्षी जागरूकता शिविरों का आयोजन कराया गया तथा ई-प्राॅसीक्यूशन पर समस्त अभियोजकों का प्रशिक्षण पूर्ण किया जा चुका है।

अपर पुलिस महानिदेशक, अभियोजन श्री आशुतोष पाण्डेय से मिली जानकारी के अनुसार अभियोजकों को और अधिक सक्रिय करने हेतु आवश्यक सुविधाओं के साथ प्रशिक्षण भी प्रदान किये गये हैं। पक्षद्रोहिता एवं दोषमुक्ति निवारण हेतु डा0 राम मनोहर लोहिया राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय के साथ शोध अभियान चलाया गया। 200 अभियोजकों का उच्च गुणवत्ता सहित दक्षता विकास हेतु डाॅ0 राम मनोहर लोहिया राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय में प्रशिक्षण भी दिलाया गया। अभियोजकों के लिए ख्यातिलब्ध विधिवेत्ताओं की पुस्तकों की उपलब्धता भी सुनिश्चित करायी गयी है। प्रत्येक जनपद में इण्टरनेट कनक्टिविटी की व्यवस्था भी करायी गयी है।

 

श्री पाण्डेय ने बताया कि समस्त अभियोजकों के अद्यावधिक विधिक ज्ञान की सुनिश्चितता हेतु उन्हेें मा0. सर्वोच्च न्यायालय एवं मा0 उच्च न्यायालय इलाहाबाद के समस्त महत्वपूर्ण निर्णयों की डिजिटल लाइब्रेरी के माध्यम से उपलब्धता करायी गयी है। फीडिंग सम्बन्धी प्रभावी प्रशिक्षण हेतु आॅडियो-वीडियो ट्यूटोरियल की भी उपलब्धता करायी गयी। ई-कोर्ट पर उपलब्ध काॅजलिस्ट को ई-प्राॅसीक्यूशन पोर्टल पर उपलब्ध कराया गया। लगभग 500 अभियोजकों को ई-प्राॅसीक्यूशन एवं अन्य विभागीय कार्यो एवं ई-लाइब्रेरी की सुविधा हेतु लैपटाप की उपलब्धता सुनिश्चित की गई। वर्ष 2020-21 में सम्पूर्ण विभाग को डिजिटाइज करने का लक्ष्य भी निर्धारित किया गया है। अभियोजन विभाग द्वारा पारदर्शी अभियोजन कार्य मूल्यांकन की परिपाटी स्थापित की गयी है।

———

सम्पर्क-ःसूचनाधिकारी, दिनेश कुमार सिंह