May 18, 2022

आर्मी अफसर’ बनकर 50 से ज्यादा गर्लफ्रेंड दो की ले ली जान, हैरान करने वाली है इस आरोपी की सच्चाई-

Spread the love

आर्मी अफसर’ बनकर 50 से ज्यादा गर्लफ्रेंड; दो की ले ली जान, हैरान करने वाली है इस आरोपी की सच्चाईl

 

राजस्थान के जयपुर में दो महीने पहले लिव-इन प्रेमिका की हत्या करने वाले प्रेमी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इससे पहले आरोपी ने अपनी एक और प्रेमिका की हत्या की थी। शातिर आरोपी खुद को सेना में अधिकारी बताकर युवतियों को प्यार के जाल में फंसाता था। उस पर एक युवती के साथ गैंगरेप करने का भी आरोप है। गिरफ्तारी के बाद 24 साल के आरोपी विक्रम उर्फ मिंटू बैरवा ने जो खुलासे किए हैं, वह हैरान करने वाले हैं।

 

 

शातिर आरोपी विक्रम अब तक 50 से ज्यादा युवतियों को अपने जाल में फंसा चुका है। उसने पुलिस को बताया कि वह मुंबई, चंडीगढ़, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान के अलग-अलग जिलों में काम कर चुका है। इस दौरान वह लोगों और लड़कियों को अपना परिचय आर्मी अफसर और आयकर विभाग के अधिकारी के रूप में देता था।

 

इसके लिए वह अपना हुलिया भी उसी तरह बनाकर रखता था। इस कारण लड़कियां आसानी से उसकी बातों में आकर दोस्ती कर लेतीं थीं। आरोपी ने कहा कि उसका मकसद लड़कियों से शारीरिक संबंध बनाना था। सच्चाई पता चलने पर वह काम छोड़कर दूसरी जगह चला जाता था।

 

जयपुर में प्रेमिका को गला दबाकर मारा

23 फरवरी को करधनी थाना पुलिस को सूचना मिली की आर्मीनगर के एक मकान में एक युवती बेहोशी की हालत में पड़ी है। मौके पर पहुंची पुलिस ने देखा तो बिस्तर पर पड़ी युवती की मौत हो चुकी थी। लड़की की गला घोटकर हत्या की गई थी और उसके साथ रहने वाला युवक फरार था। पुलिस जांच में सामने आया कि मृतका युवती का नाम रीता (बदला हुआ) है और वह हरदोई उत्तर प्रदेश की रहने वाली है।

 

उसके साथ लिव-इन में रहने वाले युवक का नाम विक्रम उर्फ मिंटू है। वह दौसा का रहने वाला है। दोनों कई महीनों से लिव-इन में रह रहे थे। फरार आरोपी विक्रम को पकड़ने के लिए करधनी पुलिस अलवर, भिवाड़ी, दौसा, रेवाड़ी, सीकर सहित अन्य ठिकानों पर दबिश दी, लेकिन पुलिस के पहुंचने से पहले आरोपी फरार हो जाता था। आखिरकार शुक्रवार को पुलिस ने उसे टपूकड़ा (अलवर) से गिरफ्तार कर लिया।

 

ऑटो चालक ने युवती से मिलवाया, फिर साथ रहने की कसम खाई

पुलिस पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह जयपुर में एक होटल में ठहरा हुआ था। ऑटो चालक से लड़की की मांग की तो उसने रीता को होटल में भेज दिया। दोनों रात भर साथ रहे। इसके बाद दोनों में दोस्ती हो गई। दोनों ने साथ रहने की कसम खाई और फिर हरदोई चले गए। कुछ दिन बाद वहां रहने के बाद दोनों वापस लौटे और आर्मी नगर निवारू रोड पर कमरा किराए पर लेकर रहने लगे।

 

वेश्यावृत्ति का काम नहीं छोड़ा इसलिए की हत्या

आरोपी विक्रम ने बताया कि रीता शहर के स्पासेंटर और होटलों में पूरी रात के लिए जाती थी। उसने कई बार ऐसा करने के लिए मना किया। आरोपी के मुताबिक उसने रोशनी से कहा कि अब हम दोनों साथ रह रहे हैं तो यह काम छोड़ दो, लेकिन वह नहीं मानी। इसके बाद उसने रीता की गला दबाकर हत्या की और मौके से फरार हो गया। लोगों के शक से बचने के लिए उसने पड़ोसी को फोन कर रीता से बात कराने का बहाना बनाया। पड़ोसी के देखने के बाद पुलिस मौके पर पहुंच गई।

 

मृतका के परिवार से ठगे छह लाख रुपए, हुलिया आर्मी अफसर जैसा

मृतका रीता का पिता हरदोई में एक हत्या के मामले में जेल में बंद है। आरोपी विक्रम ने बड़े अधिकारियों से पहचान होने की बात बताकर परिवार वालों को उसकी जमानत कराने का भरोसा दिया। इसके लिए उसने एक लाख रुपये और पांच लाख के गहने लिए थे। यह गहने उसने चंडीगढ़ में बेच दिए थे।

 

विक्रम रीता के साथ हरदोई गया था तो उसने उसके परिवार वालों को खुद को आयकर विभाग में अधिकारी बताया। कई लोगों और रिश्तेदारों को अर्मी का अधिकारी होने की भी जानकारी दी। उसने आर्मी की वर्दी में अपने कई फोटो भी ले रखे हैं। किसी से बात करने पर शातिर आरोपी जय हिंद बोलता है और जवानों की तरह ही बाल भी कटवाता है। कई बार उसने पुलिस को भी इसी तरह चकमा दिया था।

 

सामूहिक दुष्कर्म के मामले में तीन साल से था फरारl

 

अलवर के सदर थाना इलाके में दर्ज सामूहिक दुष्कर्म के मामले में आरोपी तीन साल से फरार चल रहा था। उसने दो दोस्तों के साथ मिलकर युवती के साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया था। आरोपी की गिरफ्तारी की सूचना अलवर पुलिस को दे दी गई है।

 

ग्वालियर मप्र में की दोस्त के साथ मिलकर की युवती की हत्या

आरोपी विक्रम ने पुलिस को बताया कि पिछले साल अप्रैल में वह एक युवती पूजा शर्मा को जयपुर से ग्वालियर (मप्र) ले गया था। यहां एक साथी के साथ मिलकर उसने युवती की हत्या की और लाश को रेलवे ट्रैक पर फेंक दिया। पुलिस ने घटना के संबंध में जानकारी जुटा रही है।