January 21, 2022

आरटीओ कार्यालय दुर व्यवस्था का शिकार- वाराणसी

Spread the love

कृष्ण मोहन उर्फ बग्गा

*****************

वाराणसी-आरटीओ कार्यालय दुर व्यवस्था का शिकार
जाली इन्श्योरेंस बनाने वाला गिरोह है सक्रिय
डाइविंग लाइसेंस बनाने मे हो रही है भारी धाधली
वाराणसी- संभागीय परिवहन कार्यालय वाराणसी के स्मार्ट कार्ड ड्राइविंग लाइसेंस के सारथी हाल में जब उपभोक्ता प्रवेश करता है तो आश्चर्यचकित होकर बाहर आकर लोगों से पूछता है कि भाई मैं वाराणसी आरटीओ कार्यालय में हूं न पूछने का मेन कारण यह है कि वाराणसी के संभागीय परिवहन कार्यालय में लगभग एक दर्जन होल्डिंग जो लगे हैं उस पर यह लिखा है कि परिवहन विभाग जौनपुर पूछने पर पता चलता है कि केवल बोर्ड ही जौनपुर के हैं कार्यालय बनारस का है ड्राइविंग लाइसेंस के सारथी हाल में लाइसेंस अनुभाग स्थाई नवीनीकरण स्टोर रिकार्ड रूम बायोमेट्रिक टेस्ट रूम अन्य प्रभाग से संबंधित आधा दर्जन काउंटर सहित संभागीय निरीक्षक आर आई संभागीय परिवहन अधिकारी प्रशासन भी बैठते हैं इसके बावजूद इस भवन में दो पुरुष वास रूम दो महिला वॉशरूम दूसरे फ्लोर पर रिकॉर्ड रूम भी बना है सरकार द्वारा इतनी सुविधा देने के बाद भी इस कार्यालय में दुर्ग व्यवस्था व्याप्त है जैसे महिला और पुरुष के बाथरूम में ताले पड़े हैं परिसर में लगे हैंडपंप अपनी दुर्दशा की कहानी खुद कह रही है इतना ही नहीं महिला बाथरूम में फाइलों का जखीरा भरा पड़ा है नवीनीकरण रूम के पीछे खिड़की खोल कर पैसे का आदान प्रदान होता है स्वच्छ भारत अभियान के तहत स्वच्छता का कोई असर नहीं है चारो तरफ गंदगी ही गंदगी है स्वाभाविक है कि जब बाथरूम बंद रहेंगे तो गंदगी होगी ही होगी इतना ही नहीं दलालों को रोकने के लिए 3 वर्ष पहले सीसी फुटेज लगाया गया था कि जो व्यक्ति कैमरे के सामने बार बार आएगा उसके ऊपर दलाली करने का आरोप लगाकर मुकदमा किया जाएगा 3 साल बीत जाने के बाद भी एक भी दलाल पर कोई कार्रवाई नहीं की गई अलबत्ता राकेश सिंह नामक व्यक्ति जो अपने गाड़ी का रजिस्ट्रेशन कराने पहुंचा था घोषणा देने पर उसके साथ गाली-गलौज व मारपीट कर थाने में मुकदमा भी दर्ज करा दिया गया फर्जी इंश्योरेंस के के चलते तमाम गाड़ियों के फिटनेस भी होते हैं जिसकी जांच भी नहीं की जाती ऐसी ऐसी गाड़ियां फिटनेस में पास हो जाती हैं जिन्हें देखने के बाद यह लगेगा यह डग्गामार वाहन है उसके बाद भी फिटनेस बना दिया जाता है कम पढ़ा लिखा व्यक्ति ड्राइवरी के लिए आवेदन करता है तो वह कंप्यूटर परीक्षा में पास हो जाता है पढ़े लिखे व्यक्ति फेल हो जाते हैं।

www.mvdindianews.in