May 28, 2022

अफसरों का आदेश ठेंगे में कोतवाली का कमाऊ पूत बन गया सिपाही- अमित कुमार प्रजापति

Spread the love

*अफसरों का आदेश ठेंगे में कोतवाली का कमाऊ पूत बन गया सिपाही*

 

 

 

*फतेहपुर 2 फरवरी ।अफसर चुनाव में व्यस्त है लेकिन थानेदार मलाई मार रहे है सिपाहियों की तो बल्ले बल्ले हालात ऐसे बन गए हैं कि एक सिपाही इन दिनों सदर कोतवाली क्षेत्र धमाचौकड़ी लगाए हुए है बताया जाता है कि यह सिपाही कोतवाली पुलिस का कमाऊ पूत बन गया है*

 

*अभी हाल में ही मलवा पुलिस द्वारा एक तमंचा फैक्ट्री का किए गए खुलासा के बाद यह सिपाही शहर क्षेत्र में सक्रिय हो गया है हालांकि इसकी बैड एंट्री से अफसर भी नाराज है लेकिन चुनावी मुहिम होने की वजह से सभी नजरअंदाज करने में जुटे हुए हैं जिले में चुनावी माहौल चल रहा है और इसको लेकर हर रोज पुलिस के अधिकारियों को एक न एक निर्वाचन आयोग के आदेश से गुजरना पड़ रहा है तैयारियां पूरी तरीके से कर ली गई है कानून व्यवस्था का कड़ाई के साथ पालन कराए जाने को लेकर पुलिस के उच्चाधिकारियों ने दिशा निर्देश भी जारी कर रखे हैं लेकिन अब थानेदार भी अपने स्तर पर अपने क्षेत्र में खुलेआम मलाई काटने में लगे हुए हैं।*

 

*शहर क्षेत्र की तो बात ही निराली है पिछले दिनों राधा नगर इलाके में हुई डकैती की वारदात का खुलासा नहीं हो सका पुलिस के अफसर बोलते है जल्द खुलासा हो जाएगा लेकिन मौजूदा समय में हालात ऐसे हैं कि एक सिपाही ने शहर में धमाचौकड़ी मचा रखी है पिछले दिनों क्राइम ब्रांच में तैनात था लेकिन सट्टा के मामले में पुलिस अधीक्षक ने दो सिपाहियों को हटा दिया था इन दोनों सिपाहियों में एक को अशोथर थाने में तैनाती दी गई थी तो दूसरे को चांदपुर थाने में तैनाती दी गई थी लेकिन चांदपुर को थाने में जाने वाले सिपाही ने 2 दिन में ही लंबी छुट्टी लेकर अपनी रवानगी करवा ली और बताया जाता है कि करीब डेढ़ माह बाद आने के बाद सीधे पुलिस लाइन में आमद करवाने बाद से वह कोतवाली का खैर खास बन गया*

 

*कोतवाली में किस की पोस्टिंग की इसका जवाब किसी के पास नहीं है लेकिन मौजूदा समय में हालात ऐसे हैं कि सिपाही पूरे शहर में घूम कर कहीं गांजा बिकवा रहा है तो कहीं सट्टे का बड़ा कारोबार स्थापित कर रखा है कहा तो यहां पर जा रहा है कि यह सिपाही कोतवाली पुलिस का इन दिनों सबसे बड़ा कार खास और कमाऊ पूत बन गया इससे पुलिस की ओर से लेकर गांव का बाजार गर्व है लेकिन आला अधिकारी पूरी तरीके से नजरअंदाज करने में जुटे हुए हैं*