November 30, 2021

*अध्यात्म की नगरी काशी मे भगवान शिव मंदिर को ही अतिक्रमण के दौरान किया जा रहा बेघर*

Spread the love

*ऐसे में एक बड़ा सवाल यह उठता है एक तरफ भारत सरकार और राज्य सरकार बनारस को हाईटेक सिटी का दर्जा दे दी है वहीं दूसरी तरफ बनारस के विकास और चौड़ीकरण मे अतिक्रमण के नाम पर सिर्फ मंदिरों को ही क्यों तोड़ा जा रहा है

*हिंदू युवा शक्ति व विश्व सनातन सेना* के पदाधिकारियों कमलेश चंद त्रिपाठी निर्भय सिंह अनिल सिंह वह सैकड़ों कार्यकर्ताओं द्वारा धर्म न्याय यात्रा भोजपुर चौराहे से निकाला गया जिला मुख्यालय पहुंचकर जिलाधिकारी को सौंपा गया ज्ञापन

कमलेश चंद्र त्रिपाठी द्वारा बताया गया भोजूबीर स्थित सिंधोरा मार्ग सब्जी मंडी चौराहे पर सड़क किनारे 200 साल पुराना प्राचीन शिव मंदिर है जिसे अतिक्रमण के नाम पर खंडित कर दिया गया और सड़क निर्माण के दौरान खंडित करते हुए कूड़े करकट में तब्दील कर दिया गया मंदिर खंडित करने वाले उद्यमियों के विरुद्ध कार्यवाही करने हेतु एसएसपी वाराणसी को प्रार्थना पत्र के अनुक्रम में कार्यवाही नहीं की गई खंडित मंदिर का जीणेॉद्वार साफ सफाई भोजुबीर व्यापार मंडल स्थानीय लोगो अधिवक्ता व धर्मपरामण और लोगों द्वारा कराया गया दिनांक 4.2.2019 को मंदिर की साफ सफाई व पूजा पाठ को भारी भरकम फोर्स के बल पर शाम 5: बजे ACM चतुर्थ व कैट क्षेत्राधिकारी अतिक्रमण के नाम पर बंद कराया गया तथा बल प्रयोग की धमकी द्वारा मंदिर हटाने का दबाव बनाया जाने लगा जबकि उसी मार्ग पर नवलपुर में सड़क के मध्य अक्षित मजार है जो हटाने हेतु वर्ष 2017 में दो बार जिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र दिया गया तो उसे धार्मिक आस्था मानकर अतिक्रमण के दायरे से बाहर कर के कार्यवाही नहीं की गई दिनांक 17.12.2018 को जिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र देकर सड़क के बीचो बीच मजार को हटाने की मांग की गई तो जिलाधिकारी द्वारा ACM चतुर्थ को कार्यवाही हेतु आदेशित किया गया परंतु आज तक कार्यवाही नहीं की गई उत्तर प्रदेश सरकार की पारदर्शी भेदभाव अलग-अलग धर्मों की तुष्टीकरण विरोधी नीति व कार्यशैली के विपरीत आचरण की व कार्यवाही नही की जा रही है