January 16, 2021

अख़बार में छपी एक तस्वीर ने दी पूजा को प्रेरणा,

Spread the love

वाराणासी की पूजा अब जगा रही शिक्षा की अलख,

ग़रीब बच्चों को कोरोना काल में भी मुफ़्त ऑनलाइन शिक्षा दे रही है ये युवती,

वाराणसी। रोहनियां (15/12/2020) राजातालाब निवासिनी पूजा गुप्ता अपने आस-पास पास के गाँव के ग़रीब बच्चों को विगत तीन सालों से मुफ़्त में पढ़ाती है इसकी प्रेरणा उनको अख़बार में छपी ख़बर से मिली तीन साल पहले एक बार उन्होंने अख़बार में एक लेख पढ़ा जिसमें कूड़ा बिनने वाले बच्चों के बारे में लिखा था जिसे देखकर पूजा ने इन ग़रीब बच्चों को पढ़ाने का फ़ैसला कर लिया ताकि कोई अनपढ़ ना रहे। ग़रीबों की मदद से बड़ा कोई पुण्य नहीं है ख़ासकर ग़रीब बच्चों की शिक्षा और उन्हें सही राह दिखाना हमारा समाज के प्रति फ़र्ज़ है। ग़रीब बच्चों को शिक्षित कर इन बच्चों को क़ाबिल बना रही हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में रहने वाली मुम्बई यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट पूजा नाम की यह युवती इसी फर्ज को पूरा कर रही हैं। पूजा अपने इलाक़े के ग़रीब बच्चों को मुफ़्त में शिक्षित कर रही है… जो काफ़ी सराहनीय है आपको बता दें कि वाराणसी के राजातालाब इलाक़े में रहने वाली पूजा अपने इलाक़े में ग़रीब बच्चों के घर-घर जाकर उनके परिजनों को प्रोत्साहित करती है… साथ ही उन्हें शिक्षा के महत्व को भी समझाती है इतना ही नहीं पूजा कोरोना काल में भी इन बच्चों को आशा ट्रस्ट एवं रेड ब्रिगेड ट्रस्ट के सहयोग से इन बच्चों को मुफ़्त पठन पाठन सामग्री किताब कापी आदि का भी वितरण करने के साथ मुफ़्त में आनलाइन शिक्षा प्रदान कर रहीं हैं और पूजा के इस सराहनीय कार्य में उनके पति का भी उतना ही सहयोग है क्यूंकि पूजा के पति सामाजिक कार्यकर्ता राजकुमार गुप्ता दशकों से वंचित समुदाय के बेहतरी के लिए कई मोर्चों पर कार्य कर रहे हैं राजकुमार गुप्ता अपनी पत्नी के इस कार्य के लिए काफ़ी मदद करते हैं… उनके काम में भी हाथ बँटाते हैं बता दें कि राजकुमार शिक्षा के अधिकार से अबतक पाँच सौ से अधिक गरीब बच्चों को निजी स्कूलों में दाख़िला दिलाकर वंचित समुदाय के बच्चों को बाल मज़दूरी जैसे अभिशाप से मुक्ति दिलाकर शिक्षा के अधिकार से जोड़ कर इन बच्चों को शिक्षित कर रहे हैं।